वर्ण पिरामिड: नौ दुर्गा


माँ 
दुर्गा
कुमारी
मनोहारी
वरदायिनी
जगत जननी
सर्वदा पूजनीय ।।

नौ 
दिन
का वास
उपवास
मां आगमन
भजन कीर्तन
चरणों में नमन ।।

हे
आदि
भवानी
मातृशक्ति
असीम भक्ति
आपको अर्पण
सर्वस्व समर्पण ।।

माँ  
देवी
हैं क्षमा
नेह प्रेम 
सहृदयता
करुणा ममता 
जग की अधिष्ठाता ।। 

**जिज्ञासा सिंह**

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 13 अक्टूबर 2021 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप भी आइएगा ... धन्यवाद!
    !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को "पांच लिंकों का आनन्द में"शामिल करके आपने मुझे हार्दिक खुशी दी है पम्मी जी,आपका बहुत बहुत आभार और अभिनंदन । हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई 💐💐

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. आपका बहुत बहुत आभार, आपको मेरा सादर नमन 🙏💐

      हटाएं
  3. बहुत बहुत आभार आदरणीय दीदी 🙏💐

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर वर्ण पिरामिड माँ की आराधना में।
    सभी पिरामिड भावपूर्ण सार्थक।
    सस्नेह।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बहुत आभार आपका कुसुम जी ।

    जवाब देंहटाएं