गाँधी जी का नजराना..गीत

 


चलो दोस्त गाँधी को बाँटें,

बाँट-तराज़ू तुम ले आना ।

एक तरफ़ गाँधी को रखना

एक तरफ़ उनका नजराना 


नजराने में राष्ट्रपिता की महिमा तोलें ?

दीवारों के कान ज़रा कुछ धीरे बोलें 

सुन लेंगे बनिए जो दाँव लगाए बैठे,

कच्चा-चिट्ठा,धीरे-धीरे रह-रह खोलें 

तोलेंगे ज़रूर चाहे जितना हल्ला हो,

चाहे जिसको पड़े चीखना  चिल्लाना 


सुनो घड़ी नजराने वाली महँगी होगी,

पल-पल का हिसाब लेगी  देगी 

अब वो घड़ी समय थोड़ी  बतलाएगी,

पर चालों पर ठहरी एकटक नज़र रखेगी 

भाग लुकाएँगे हम पहन के उनकी पनही,

तुम भी धीरे से मेरे पीछे  जाना 


कहे तराज़ू लाओ उनका चश्मा तोलें,

लेंस लगा है या शीशे का,पर्तें खोलें 

देख रहा सब वो भी होगा पर चुपके से,

निष्कर्षों के घालमेल में मिर्ची घोलें 

चरखा भी आज़ादी के मतवालों में था

ये बातें दीवारों से भी न कह जाना 


**जिज्ञासा सिंह**

बाज़ी गई मैं हार..गीत



बाज़ी गई मैं हार बलम जी..


कोई कहे अबला कोई कहे सबला

कोई कहें सुंदर नार बलम जी,

अगले जनम की काव कहूँ मैं,

यहि रे जनम गई हार बलम जी 


तुम जीते थे तुम फिर जीते

आज तलक जीते ही जीते 

खेल खेलती रही साथ मैं

पल-पल करते सौ युग बीते 

अब क्या दूँ इनाम मैं तुमको

दे डारा सब झार बलम जी 


एकहि अपने हाथ डेलरिया

वो भी आधी भरी फुलरिया 

घुमची जैसा फूल सजाया

लाल रंग पे दाग है करिया 

किसी रे जनम मैं मोलतोल की

रत्ती रही सुनार बलम जी 


बरसत भीगी भीज लुकानी

कंबहुँ करी  आनाकानी 

चलनी भीतर रोक  पाई

अपना जोगा निथरा पानी 

ना घइला मैं ना थी रसरिया

ना कुइयाँ की धार बलम जी 


चढ़ सूली झूला मैं झूली

लीला समझी,समझ के फूली

नेह उगा हर पातपात में

देख सकल संसार ही भूली

वही ओढ़ना वही बिछौना

वहि जीवन सिंगार बलम जी 


बाज़ी गई मैं हार बलम जी 


**जिज्ञासा सिंह**

दो मुस्कुराते नैन

 


दो मुस्कुराते नैन देखे

नैन में जलधार देखा 

लाल-नीला,श्वेतश्यामल

सज रहा संसार देखा 


नैन में बहता समंदर

तैरती नौका वृहद 

उछलती कुछ मचलती

थी डूबती तिरती जलद 

बरसता पावसपनपता

सीप मुक्ताहार देखा 


केवड़े सा जल कहाँ

सागर से पूँछें मीन लाखों 

यौवनों को है संजोना

पार उड़ना तीव्र पाँखों 

इस प्रवाही-जीव को

जाना जलधि के पार देखा 


नैन अविरल जब हुए

तो भाव निर्मल कर गए 

ले अँजूरी सिंधु विस्तृत

नैन में ही भर गए 

नैन से होकर गुजरता

सिंधु का हर सार देखा 


**जिज्ञासा सिंह**

हिंदी माँगे अधिकार सुनो !

 


हिंदी माँगे अधिकार सुनो !

अपनी बन के रह जाने से

होता  कभी उद्धार सुनो 


सब कहते कि मैं हूँ महान

पर करते  इतना निदान 

समृद्ध-सरस पहचान मेरी

भाषाओं की निज आसमान 

सबसे मिल कर सबकी बनकर

करना विस्तृत संसार सुनो 


गर माँगे छाया आँचल की

मैं धरणी जैसी बिछ जाऊँ 

ममता-वात्सल्य स्वरूपा बन

अपनी संतति पर इतराऊँ ॥

वे बोएँ बीज भले गिनकर

मैं उगूँ सघन विस्तार सुनो 


हूँ हिंदी सिद्धा स्वयं सकल

हर भाषा भाषी में व्यापूँ 

अंतर्मन घट-घट में उतरूँ

मग-मग,डग-डग धरती नापूँ ॥

कम्प्यूटर होविज्ञान जगत 

नतमस्तक बारम्बार सुनो 


भाषाउपभाषाजग भाषा

वर लें कर लें निज हस्त ग्रहण 

मन वाणी कर्म समाहित हो

लंकार विभूषित वचन वरण 

नभ-जल-थल सबकी अभिलाषा

सबमें होना स्वीकार सुनो 

हिंदी माँगे अधिकार सुनो 


“🌹🌹हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ और बधाई🌹🌹”


**जिज्ञासा सिंह**